मोने लोग गाय को माँ तो बैल को पिता क्यूँ नहीं मानते?

पगड़ीधारी लोग कछेरे की जगह पेंट को ककारों का हिस्सा क्यूँ नहीं मानते?

15 मिनट की इस स्पीच में मैंने कोशिश की है डिस्कस करने की।

हैलो बठिंडा!